Basket 0
 0.00

Blog

एक सामान्य प्रश्न और उस का उत्तर जो एक बागवान जैविक खेती के बारे में जानना चाहता है


प्रश्न-क्या जैविक खेती से उत्पादन में कमी अति है ?

उत्तर-जैविक खेती को हम दो अंश में बाँट के समझ सकते है

१. जैविक – इस प्रकार के खेती में हम घर पर उपयोगी होने वाली चीज़े व् पशु धन को प्रयोग में लाते है। खेतों में उगने वाली खरपतवार इत्या अदि को पूर्ण रूप से प्रयोग में लाया जाता है। इस तरह के खेती को ” जीरो बजट नेचुरल फार्मिंग ” भी कहा जाता है।

२. आधुनिक पुनर्योजी जैविक खेती – इस प्रकार की खेती में सम्पूर्ण रूप से पौधों व् मिटटी की देखभाल की जाती है इस प्रकार की खेती में जैविक उत्पादन वैज्ञानिक व् अनुसंधान तरीकों से तैयार की जाते है। जिस के कारन पौधों को सम्पूर्ण पोषण मिलता है।

हिमाचल फ्रूट्स दोनों तरीकों को मिला कर जैविक खेती करने के सलाह देता है जिस के कारन एक संतुलन बन रहते है इसी कारन से उत्पादन में कभी कमी नहीं आती पौधे व् मिटटी स्वस्थ रहती है और वक़्त के साथ साथ लागत में भी कमी अति है।

Comments

leave a comment

preloader